bk murli

English

Essence: Sweet children, the Father has come to liberate the lives of all of you from sorrow and to give you your inheritance of heaven. At this time, everyone receives liberation and liberation-in-life.

Question: Which sapling are we children planting now and with what method?
Answer: We are now planting the sapling of deity flowers. Those who belong to the Brahmin clan will continue to come. This is the sapling of the deity religion in which human beings become deities. This sapling is being planted on the basis of shrimat. By remembering the Father, iron-aged souls become golden aged.

Song: No one is unique like the Innocent Lord!

Essence for dharna:
1. In order to claim the highest-on-high status, pay full attention to the study. Conquer Maya on this battlefield and attain your karmateet stage. Don’t be defeated.
2. In order to make your intellect golden aged and pure, stay in remembrance of the Father. Plant the sapling of deity flowers and establish heaven.

Blessing: May you finish the consciousness of “I” by practising the incorporeal stage and becoming egoless.
At present, the most subtle and beautiful thread is that of the consciousness of “I”. This word “I” is one that takes you beyond body consciousness and also brings you into body consciousness. When you have the consciousness of “I” in the wrong way, then, instead of being loving to the Father, you become loving to one or another soul and to name, form and honour. In order to become free from that bondage, remain constantly stable in the incorporeal stage and then come into the corporeal. Make this practice your natural nature and you will become egoless.

Slogan: To have any feeling of dislike in your thoughts on hearing something good or bad about anyone is to follow the dictates of others.

Hindi

“मीठे बच्चे – बाप आये हैं सबके जीवन को दु:ख से मुक्त कर स्वर्ग का वर्सा देने, इस समय सबको मुक्ति और जीवनमुक्ति मिलती है”
प्रश्न:- तुम बच्चे अभी कौन सा सैपलिंग किस विधि से लगा रहे हो?
उत्तर:- हम अभी दैवी फूलों का सैपलिंग लगा रहे हैं, जो ब्राह्मण कुल के होंगे वह इस सैपलिंग में आते जायेंगे। यह है देवता धर्म का सैपलिंग जिसमें मनुष्य देवता बनते हैं। यह सैपलिंग श्रीमत के आधार पर लगता है। बाप को याद करने से आइरन एजड आत्मा गोल्डन एजड बन जाती है।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…
धारणा के लिये मुख्य सार:-
1) ऊंच ते ऊंच पद पाने के लिए पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन देना है। इस युद्ध स्थल पर माया को जीत कर कर्मातीत अवस्था को पाना है। हार नहीं खानी है।
2) अपनी बुद्धि को गोल्डन एजेड पवित्र बनाने के लिए बाप की याद में रहना है। दैवी फूलों की सैपलिंग लगाना है, स्वर्ग की स्थापना करनी है।
वरदान:- निराकारी स्थिति के अभ्यास द्वारा मैं पन को समाप्त करने वाले निरहंकारी भव
वर्तमान समय सबसे महीन और सुन्दर धागा-यह मैं पन है। यह मैं शब्द ही देह-अभिमान से पार ले जाने वाला भी है तो देह-अभिमान में लाने वाला भी है। जब मैं पन उल्टे रूप में आता है तो बाप का प्यारा बनाने के बजाए कोई न कोई आत्मा का, नाम-मान-शान का प्यारा बना देता है। इस बंधन से मुक्त बनने के लिए निरन्तर निराकारी स्थिति में स्थित होकर साकार में आओ-इस अभ्यास को नेचुरल नेचर बना दो तो निरहंकारी बन जायेंगे।
स्लोगन:- किसी की बुरी वा अच्छी बात सुनकर संकल्प में भी घृणा भाव आना – यह भी परमत है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s