bk murli

English

Essence: Sweet children, this unlimited old world is now to be destroyed. The new world is being established and, therefore, in order to go to the new world, you must become pure.

Question: What wonderful things do you know about God that are beyond the understanding of human beings?
Answer: You say that just as a soul is a point of light, so the Supreme Soul too is an extremely subtle point of light. These wonderful things are beyond the understanding of human beings. Even some of you children become confused about this. Baba says: Children, don’t become confused! If you’re unable to remember Him in His tiny form, remember Him in a large form, but definitely do remember Him.

Song: O traveller of the night, do not become weary! The destination of the dawn is not far off.

Essence for dharna:
1. The play of 84 births is now coming to an end. You now have to return home. Therefore, remain soul conscious and become pure. Remove all body consciousness.
2. Consider yourself to be a soul, a point, with the true meaning in mind and stay in unadulterated remembrance of the Father, the Point. Become a mahavir and make your stage unshakeable and immovable.

Blessing: May you be introverted and have self-respect by constantly remaining face to face with the Sun of Knowledge.
Just as when you face the sun you definitely receive the rays of the sun, similarly, the children who remain constantly face to face with the Father, the Sun of Knowledge, experience in themselves the rays of all the virtues of the Sun of Knowledge. You can see on their faces the sparkle of introversion and the intoxication of all the titles of self-respect of the confluence age and the future. For this, always have the awareness that these are the final moments. Your body can be destroyed at any moment and you must therefore always have a loving intellect, stay in front of the Sun of Knowledge and experience introversion and self-respect.

Slogan: To fly constantly in the flying stage is to cross any mountain of confusion (jamela).

Hindi

“मीठे बच्चे – अब इस बेहद की पुरानी दुनिया का विनाश होना है, नई दुनिया स्थापन हो रही है, इसलिए नई दुनिया में चलने के लिए पवित्र बनो”
प्रश्न:- परमात्मा के बारे में तुम बच्चे कौन सी वन्डरफुल बात जानते हो जो मनुष्यों की समझ से बाहर है?
उत्तर:- तुम कहते हो जैसे आत्मा ज्योति बिन्दु है, वैसे परमात्मा भी अति सूक्ष्म ज्योति बिन्दु है। यह वन्डरफुल बातें मनुष्यों की समझ से बाहर हैं। कई बच्चे भी इसमें मूँझ जाते हैं। बाबा कहते बच्चे मूँझो मत। अगर छोटे रूप में याद नहीं रहती तो बड़े रूप में याद करो। याद जरूर करना है।
गीत:- रात के राही थक मत जाना..
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) 84 जन्मों का नाटक अभी पूरा होता है, वापस घर चलना है, इसलिए आत्म-अभिमानी रह पावन बनना है। देह-अभिमान मिटाना है।
2) अर्थ सहित अपने को आत्मा बिन्दू समझ, बिन्दू बाप की अव्यभिचारी याद में रहना है। महावीर बन अपनी अवस्था अडोल, अचल बनानी है।
वरदान:- सदा ज्ञान सूर्य के सम्मुख रहने वाले अन्तर्मुखी, स्वमानधारी भव
जैसे सूर्य के सामने देखने से सूर्य की किरणें अवश्य आती हैं, ऐसे जो बच्चे ज्ञान सूर्य बाप के सदा सम्मुख रहते हैं वो ज्ञान सूर्य के सर्व गुणों की किरणें स्वयं में अनुभव करते हैं। उनकी सूरत पर अन्तर्मुखता की झलक और संगमयुग के वा भविष्य के सर्व स्वमान की फलक दिखाई देती है। इसके लिए सदा स्मृति में रहे कि यह अन्तिम घड़ी है। किसी भी घड़ी इस तन का विनाश हो सकता है इसलिए सदा प्रीत बुद्धि बन ज्ञान सूर्य के सम्मुख रह अन्तर्मुखता वा स्वमान की अनुभूति में रहना है।
स्लोगन:- सदा उड़ती कला में उड़ना ही झमेलों के पहाड़ को क्रास करना है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s