b k murli

English

Essence: Sweet children, you are transforming this old world and making it new with your power of yoga. You have been born to do spiritual service.

Question: What are the signs of honest, true effort-making children?
Answer: Honest children never hide their mistakes. They instantly tell Baba. They are very egoless. Their intellects are constantly aware that whatever actions they perform, others will do the same. They never spread news of the disservice done by anyone. They remain busy in their own service. They never spoil their heads by seeing anyone’s weaknesses.

Song: Have patience o mind! Your days of happiness are about to come.

Essence for dharna:
1. Have an interest in doing service and benefit yourself and others. Never spread news of anyone’s disservice. Don’t waste your time in thinking about others.
2. Be honest and egoless and increase service. Wake up early in the morning and remember the Father with a lot of love. Let your deeds be equal to your words.

Blessing: May you be a master sun of knowledge who burns the germs of old sanskars with the powerful rays of knowledge and yoga.
In order to burn the germs of old sanskars and transform any type of impure atmosphere, have the awareness: I am a master sun of knowledge. The duty of the sun is to give light and to finish rubbish. So, continue to perform this task with the power of knowledge and yoga and your elevated behaviour. If power is lacking, then the knowledge will only give light, and the germs of the old sanskars will not finish. Therefore, first become powerful with yoga-tapasya.

Slogan: Elevated thoughts of good wishes and pure feelings increase your account of accumulation.

Hindi

“मीठे बच्चे – तुम अपने योगबल से इस पुरानी दुनिया को परिवर्तन कर नया बनाते हो, तुम प्रकट हुए हो रूहानी सेवा के लिए”
प्रश्न:- ईमानदार सच्चे पुरूषार्थी बच्चों की निशानियाँ क्या होंगी?
उत्तर:- ईमानदार बच्चे कभी भी अपनी भूल को छिपायेंगे नहीं। फौरन बाबा को सुनायेंगे। वह बहुत-बहुत निरहंकारी होते हैं, उनकी बुद्धि में सदा यही ख्याल रहता कि जैसा कर्म हम करेंगे….। 2- वह किसी की डिस-सर्विस का गायन नहीं करते। अपनी सर्विस में लगे रहते हैं। वह किसी का भी अवगुण देख अपना माथा खराब नहीं करते।
गीत:- धीरज धर मनुवा…
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) सर्विस का शौक रख अपना और दूसरों का कल्याण करना है। किसी की डिस-सर्विस का गायन नहीं करना है। परचिंतन में अपना समय नहीं गँवाना है।
2) ईमानदार और निरंहकारी बन सेवा को बढ़ाना है। सवेरे-सवेरे उठकर बाप को प्यार से याद करना है। कथनी और करनी समान बनानी है।
वरदान:- ज्ञान-योग की पावरफुल किरणों द्वारा पुराने संस्कार रूपी कीटाणुओं को भस्म करने वाले मास्टर ज्ञान सूर्य भव
कैसे भी पतित वातावरण को बदलने के लिए अथवा पुराने संस्कारों रूपी कीटाणुओं को भस्म करने के लिए यही स्मृति रहे कि मैं मास्टर ज्ञान सूर्य हूँ। सूर्य का कर्तव्य है रोशनी देना और किचड़े को खत्म करना। तो ज्ञान-योग की शक्ति वा श्रेष्ठ चलन द्वारा यही कर्तव्य करते रहो। यदि पावर कम है तो ज्ञान सिर्फ रोशनी देगा परन्तु पुराने संस्कार रूपी कीटाणु खत्म नहीं होंगे इसलिए पहले योग तपस्या द्वारा पावरफुल बनो।
स्लोगन:- शुभ भावना, शुभ कामना के श्रेष्ठ संकल्प ही जमा का खाता बढ़ाते हैं।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s