bk murli

English

Essence: Sweet children, remain tolerant in every situation. Maintain equanimity in praise and defamation and victory and defeat. Don’t believe things you hear from others.

Question: What is the easy way for souls to make constant progress in the stage of ascending?
Answer: Listen to only the one Father and no one else. Don’t waste your time in unnecessary talk and in useless thoughts about others and you souls will be constantly in the flying stage. By listening to and believing wrong things, even good children fall and this is why you have to be very careful.

Essence for dharna:
1. Check yourself. Check whether you have become very, very sweet. What do I lack? Have I imbibed all the divine virtues? Let your behaviour be like that of the deities. Renounce impure food and drink.
2. Don’t listen to or relate any useless matters. Become tolerant.

Blessing: May you be an image of perfection who achieves results, that is, who attains success in every thought and deed.
Success in thoughts is achieved when the thoughts you create are powerful. Those who create too many thoughts are then not able to sustain them. Therefore, the bigger the creation, the less power it has. So, first of all, stop creating waste and there will then be success. The way to attain success in your deeds is to know the beginning, middle and end of the deed before you perform it. By doing this you will become an image of perfection.

Slogan: Those who achieve success by protecting themselves in time from sorrow and deception are said to be knowledgeable ones.

Hindi

मीठे बच्चे – सब बातों में सहनशील बनो, निंदा-स्तुति, जय-पराजय सबमें समान रहो, सुनी सुनाई बातों में विश्वास नहीं करो”
प्रश्न:- आत्मा सदा चढ़ती कला में आगे बढ़ती रहे उसकी सहज युक्ति सुनाओ?
उत्तर:- एक बाप से ही सुनो, दूसरे से नहीं। फालतू परचिन्तन में, वाह्यात बातों में अपना समय बरबाद न करो, तो आत्मा सदा चढ़ती कला में रहेगी। उल्टी-सुल्टी बातें सुनने से, उन पर विश्वास करने से अच्छे बच्चे भी गिर पड़ते हैं, इसलिए बहुत सम्भाल करनी है।
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) अपनी जांच आपेही करनी है। देखना है मैं बहुत-बहुत मीठा बना हूँ? हमारे में क्या-क्या कमी है? सब दैवीगुण धारण हुए हैं! अपनी चलन देवताओं जैसी बनानी है। आसुरी खान-पान त्याग देना है।
2) कोई भी वाह्यात बातें न सुननी है और न बोलनी है। सहनशील बनना है।
वरदान:- हर संकल्प और कर्म में सिद्धि अर्थात् सफलता प्राप्त करने वाले सम्पूर्ण मूर्त भव
संकल्पों की सिद्धि तब प्राप्त होगी जब समर्थ संकल्पों की रचना करेंगे। जो अधिक संकल्पों की रचना करते हैं वह उनकी पालना नहीं कर पाते इसलिए जितनी रचना ज्यादा उतनी शक्तिहीन होती है। तो पहले व्यर्थ रचना बन्द करो तब सफलता प्राप्त होगी और कर्मों में सफलता प्राप्त करने की युक्ति है-कर्म करने से पहले आदि-मध्य और अन्त को जानकर फिर कर्म करो। इससे ही सम्पूर्ण मूर्त बन जायेंगे।
स्लोगन:- समय पर दु:ख और धोखे से बचकर सफल होने वाला ही ज्ञानी (समझदार) है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s