bk murli

English

Essence: Sweet children, this is your most valuable time and you must therefore not waste it. Donate
knowledge to those who are worthy.

Question: What is the easy way to continue to imbibe virtues and reform your behaviour?
Answer: Explain to others the things that Baba explains to you. Donate the wealth of knowledge and you will easily continue to imbibe virtues and your behaviour will continue to be reformed. Those who are unable to keep this knowledge in their intellects and don’t donate the wealth of knowledge are misers. They create a loss for themselves unnecessarily.

Song: Do not forget the days of your childhood!

Essence for dharna:
1. Whatever happens, consider it to be destiny and remain quiet. Don’t become angry. Control yourself as much as possible. Create ways to try and make others similar to yourself.
2. Give everyone the Father’s introduction with a lot of love and humility. Tell everyone the sweet things that the Father says: Consider yourself to be a soul and remember Me. Conquer all attachment to your body.

Blessing: May you be an easy yogi who experiences remembrance to be easy with the awareness of being a helper of God.
To be a helper of God means to be one who is constantly engaged in the service given by Khuda or the Father. Always let there be the intoxication that God Himself has given you this service to do. While carrying out a task, you never forget the person who gave you that task to carry out. So, while doing physical service, have the awareness that you are doing everything according to the Father’s directions and you will experience remembrance to be easy and you will become easy
yogis.

Slogan: Let there always be the awareness of your Godly student life and Maya will not be able to come close to you.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – बाप जो पढ़ाते हैं, उसे अच्छी रीति पढ़ो तो 21 जन्मों के लिए सोर्स आफ इनकम हो जायेगी, सदा सुखी बन जायेंगे”
प्रश्न:- तुम बच्चों के अतीन्द्रिय सुख का गायन क्यों है?
उत्तर:- क्योंकि तुम बच्चे ही इस समय बाप को जानते हो, तुमने ही बाप द्वारा सृष्टि के आदि मध्य अन्त को जाना है। तुम अभी संगम पर बेहद में खड़े हो। जानते हो अभी हम इस खारी चेनल से अमृत के मीठे चेनल में जा रहे हैं। हमें स्वयं भगवान पढ़ा रहे हैं, ऐसी खुशी ब्राह्मणों को ही रहती है इसलिए अतीन्द्रिय सुख तुम्हारा ही गाया हुआ है।
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) हम गॉडली स्टूडेन्ट हैं, इसलिए पढ़ाई का नशा भी रहे तो अपने कैरेक्टर्स पर भी ध्यान हो। एक दिन भी पढ़ाई मिस नहीं करनी है। देर से क्लास में आकर टीचर की इनसल्ट नहीं करना है।
2) इस विकारी छी-छी दुनिया से नफरत रखनी है, बाप की याद से अपनी आत्मा को पवित्र सतोप्रधान बनाने का पुरूषार्थ करना है। सदैव खुश, हर्षितमुख रहना है।
वरदान:- याद के बल से अपने वा दूसरे के श्रेष्ठ पुरूषार्थ की गति विधि को जानने वाले मास्टर त्रिकालदर्शी भव
जैसे साइन्स वाले पृथ्वी से स्पेश में जाने वालों की हर गति विधि को जान सकते हैं। ऐसे आप त्रिकालदर्शी बच्चे साइलेन्स अर्थात् याद के बल से अपने वा दूसरों के श्रेष्ठ पुरूषार्थ वा स्थिति की गति विधि को स्पष्ट जान सकते हो। दिव्य बुद्धि बनने से, याद के शुद्ध संकल्प में स्थित होने से त्रिकालदर्शी भव का वरदान प्राप्त हो जाता है और नये-नये प्लैन प्रैक्टिकल में लाने के लिए स्वत: इमर्ज होते हैं।
स्लोगन:- सर्व के सहयोगी बनो तो स्नेह स्वत: प्राप्त होता रहेगा।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s