bk murli

23 October 2015 Murli

English

Essence: Sweet children, you have to become deities, so renounce the defects of Maya. To get angry, to beat someone, to harass someone, to perform bad actions and to steal etc., are all great sins.

Question: Which children can go ahead fast in this knowledge? Which ones experience a loss?
Answer: Those who know how to keep their accounts can go ahead very fast in this knowledge. It is those who don’t remain soul conscious who experience a loss. Baba says: Businessmen have the habit of keeping their accounts. Therefore, here, too, they can go ahead very fast.

Song: O man, look at your face in the mirror of your heart!

Essence for dharna:
1. Check yourself and imbibe divine virtues. Remove all bad habits. Promise Baba: Baba, I will never perform any bad action.
2. In order to attain the karmateet stage, race in remembrance. Remain present on spiritual service. Have regard for your seniors.

Blessing: May you be a master almighty authority who finds solutions to reasons and remains free from worry and fear.
At present, along with temporary happiness, there are also the two things: worry and fear. Where there is worry, there cannot be any restfulness and where there is fear, there cannot be any peace. So, along with happiness, there are also these reasons for sorrow and peacelessness. However, you are master almighty authorities who are filled with the treasure of all powers, the ones who find solutions to all causes of sorrow, embodiments of solution who find a solution to every problem. Therefore, you are free from worry and fear. A problem comes in front of you to play with you, not to make you afraid.

Slogan: Make your attitude elevated and your household will automatically become elevated.

Hindi

मुरली सार:- “मीठे बच्चे – तुम्हें देवता बनना है इसलिए माया के अवगुणों का त्याग करो, गुस्सा करना, मारना, तंग करना, बुरा काम करना, चोरी-चकारी करना यह सब महापाप है”
प्रश्न:- इस ज्ञान में कौन-से बच्चे तीखे जा सकते हैं? घाटा किन्हें पड़ता है?
उत्तर:- जिन्हें अपना पोतामेल रखना आता है वह इस ज्ञान में बहुत तीखे जा सकते हैं। घाटा उनको पड़ता है जो देही-अभिमानी नहीं रहते। बाबा कहते व्यापारी लोगों को पोतामेल निकालने की आदत होती है, वह यहाँ भी तीखे जा सकते हैं।
गीत:- मुखड़ा देख ले प्राणी……..
धारणा के लिए मुख्य सार:-
1) अन्दर में अपनी जांच कर दैवीगुण धारण करने हैं। खराब आदतों को निकालना है। प्रतिज्ञा करनी है – बाबा हम कभी भी बुरा काम नहीं करेंगे।
2) कर्मातीत अवस्था को प्राप्त करने के लिए याद की रेस करनी है। रूहानी सेवा में तत्पर रहना है। बड़ों का रिगार्ड रखना है।
वरदान:- कारण का निवारण कर चिंता और भय से मुक्त रहने वाले मा.सर्वशक्तिमान भव
वर्तमान समय अल्पकाल के सुख के साथ चिंता और भय यह दो चीजें तो हैं ही। जहाँ चिंता है वहाँ चैन नहीं हो सकता। जहाँ भय है वहाँ शान्ति नहीं हो सकती। तो सुख के साथ यह दुख अशान्ति के कारण भी हैं ही। लेकिन आप सर्व शक्तियों के खजाने से सम्पन्न मास्टर सर्वशक्तिमान बच्चे दुखों के कारण का निवारण करने वाले, हर समस्या का समाधान करने वाले समाधान स्वरूप हो इसलिए चिंता और भय से मुक्त हो। कोई भी समस्या आपके सामने खेल करने आती है न कि डराने।
स्लोगन:- अपनी वृत्ति को श्रेष्ठ बनाओ तो आपकी प्रवृत्ति स्वत:श्रेष्ठ हो जायेगी।

Comments

5 comments